Currently Browsing: Exclusive News

Bin Tere Oh Sathi Re Released In Mumbai

“बिन तेरे ओ साथी रे “मुम्बई में प्रदर्शित।

गोपाल पाण्डेय कृत ,भोजपुरी  फ़िल्म ”बिन तेरे ओ साथी रे” को मुम्बई और गुजरात मे वितरक राजेश पप्पू द्वारा प्रदर्शित किया गया है एस बी आर फिल्म्स एवं ओमांश फिल्म्स एंड क्रिएशन के बैनर तले बनी  फ़िल्म एक प्यारी सी लव स्टोरी पर आधारित है जिसमे मुख्य भूमिका में गौरव झा और रीतू सिंह की खूबशूरत जोड़ी दिखाई देंगे।इस फ़िल्म की निर्मात्री मीना केसरी और निर्देशक गोपाल पाण्डेय है जिन्होंने एक बेहतरीन कहानी को फ़िल्म के जरिये दर्शाया गया है ,इस फ़िल्म का लेख़क अंजनी पाण्डेय है।जिसे दर्शक बेहद पसंद कर रहे है।

इस फ़िल्म के गाने काफी प्यारे और कर्णप्रिय है जिनमे संगीत गोपाल पाण्डेय द्वारा दिए गए है और गीत लिखे है संजय पाण्डेय और अरविन्द तिवारी ने,आज के युवाओ की पसंद को ध्यान में रखकर फ़िल्म का निर्माण किया गया है ,जो दर्शको के दिलो पर राज कर रही है.जबकि फिल्म का प्रचार प्रसार अखिलेश सिंह को दिया गया है।फिल्म के मुख्य कलाकार है ,गौरव झा, रितु सिंह, संजय वर्मा ,,आईटम गर्ल ग्लोरी मेहनता इत्यादी हैं।यह फिल्म  पंजाब ,बिहार ,झारखण्ड, और बहुत जल्दअन्य राज्यों में भी प्रदर्शित की जाएगी।

—–Akhlesh Singh (PRO)

Child Actress Prarthna Kohle Appreciated For Her Work In Short Film

चाइल्ड एक्ट्रेस प्राथना कोल्हे की शार्ट फ़िल्म में सराहना।

डिजिटल क्रांति के इस दौर में शार्ट मूवीज़ का भी चलन जोरो पर है। वेब सीरीज़ और शार्ट मूवीज़ में बहुत सारे कलाकारों को काम करने का मौका मिल जाता है। मुम्बई की रहने वाली प्राथना कोल्हे भी एक ऐसी ही चाइल्ड एक्ट्रेस है जिसने एक शार्ट फ़िल्म में अभिनय किया है और इस लघु फ़िल्म को बेहद पसंद किया जा रहा है।

मायानगरी मुम्बई के जुहू इलाके की रहने वाली इस बच्ची ने इस शार्ट फ़िल्म में अपनी अदभुत एक्टिग से सब को चकित कर दिया है। वरना इस उमर में अभिनय करना बड़ा मुश्किल होता है मगर इस चाइल्ड एक्ट्रेस ने इस शार्ट फ़िल्म में काम करके सब का ध्यान अपनी ओर खींच लिया है।

—–Akhlesh Singh (PRO)

Prateek Mishra & Akshra Singh Attractive Pair Wiil be Seen In Bhojpuri Film Raja Rajkumar

प्रतीक मिश्रा और अक्षरा सिंह की जोड़ी दिखेगी फ़िल्म राजा राजकुमार में

स्टार गायक प्रतीक मिश्रा नायक बनने के लिए तैयार

प्रतीक मिश्रा और अक्षरा सिंह की आकर्षक जोड़ी बहुत जल्द अब सिलवर स्क्रीन पर नज़र आएगी। ‘राजा राजकुमार’के नाम से बनी इस भोजपुरी फ़िल्म को एच एस पवन ने डायरेक्ट किया है। प्रतीक मिश्रा और अक्षरा सिंह के अलावा फिल्म में रितेश पांडेय, दीक्षा श्रीवास्तव, संजय पाण्डेय और उपेन्द्र यादव गुडू सिंह भी दिखाई देंगे। शांति फ़िल्म प्रोडक्शन के बैनर तले बनी इस फ़िल्म के निर्माता राजीव रंजन कश्यप हैं। फ़िल्म में अविनाश झा घुंघरू का संगीत है। फ़िल्म में एक आइटम सॉन्ग में सीमा सिंह के जलवे भी नज़र आएंगे।

राजा राजकुमार का पोस्टर बेहद आकर्षक लग रहा है। इस फ़िल्म में प्रतीक मिश्रा का लुक बाकी भोजपुरी फिल्मों के कलाकारों से काफी डिफरेंट दिख रहा है। अक्षरा सिंह के साथ उनकी केमिस्ट्री बड़े पर्दे पर देखने लायक होगी।

सभी वर्ग के दर्शकों को ध्यान में रखकर बनाई गई यह फ़िल्म मनोरंजन के साथ साथ समाज में सन्देश भी देगी।

इस फ़िल्म के द्वारा स्टार गायक प्रतीक मिश्रा सिनेजगत में बतौर हीरो एन्ट्री करने जा रहे हैं।फ़िल्म के सहनिर्माता राजू मिश्रा और लेखक अरविन्द तिवारी हैं। फ़िल्म के गीतकार मनोज मतलबी, आर आर पंकज, सुमित चन्द्रवंशी, विभाकर पाण्डेय हैं। फ़िल्म के एक्शन डायरेक्टर दिलीप यादव हैं।

भोजपुरी इंडस्ट्री में गायको को हमेशा ही पसन्द किया गया है ऐसे में प्रतीक मिश्रा से उम्मीदें है कि वह भी बतौर एक्टर अपनी एक अलग पहचान बनाएंगे।

—-Akhlesh Singh (PRO)

Krina The Last Film Of Bollywood Star Indra Kumar

बॉलीवुड स्‍टार इंदर कुमार की आखिरी फिल्‍म क्रीना 8 जून को होगी रिलीज।

सलमान, शाहरूख, संजय दत्त जैसे स्‍टारों के साथ इंदर कर चुके हैं काम।

बॉलीवुड अभिनेता इंदर कुमार एक अंतिम बार बड़े पर्दे पर नजर आने वाले हैं। हालांकि अब वे इस दुनिया में नहीं रहे, मगर फिल्‍म ‘क्रीना’ से आखिरी बार सिल्‍वर स्‍क्रीन पर नजर आयेंगे। यह फिल्‍म 8 जून को देशभर में रिलीज हो रही ह। इंदर कुमार ने अपनी फिल्‍मी करियर की शुरूआत 1996 में ‘मासूम’ फिल्‍म से की थी। इसके बाद वे बॉलीवुड के 20 से ज्‍यादा फिल्‍मों में नजर आये। इंदर ने सलमान खान, शाहरूख खान, अक्षय कुमार, संजय दत्त सरीखे कलाकारों की फिल्‍म में बतौर सपोर्टिंग रोल में नजर आये और सबको खूब प्रभावित भी किया।

सलमान खान के साथ इंदर ‘तुमको न भूल पायेंगे’ ‘वांटेड’ और ‘कहीं प्‍यार न हो जाये’ में भी नजर आ चुके है। अब पार्थ फिल्म्स इंटरनेशनल द्वारा निर्मित हिन्दी एक्शन थ्रिलर एवं सामाजिक फिल्म फ़िल्म ‘क्रिना’ उनकी जिंदगी की आखिर फिल्‍म है। इसके बाद वे पर्दे पर कभी नजर नहीं आयेंगे। फ़िल्म ‘क्रिना’ एक एक्शन सामाजिक ड्रामा फ़िल्म है, जो कि अन्य फिल्मों से हट कर है। अत्याधुनिक तकनीकों  के इस्तेमाल से यह फिल्म बेहद खूबसूरत और असरदार बन गयी है। ये  दो कबीलों के सरदारों के  बीच की आपसी रंजिश की कहानी है,जो सत्य और असत्य पर आधारित है। इस फ़िल्म के निर्माता है हरविन्द सिंह चौहान, जबकि इस फ़िल्म को हाईटेक टेक्नोलॉजी से निर्देशित किया है श्यामल के मिश्रा ने।

नवोदित पार्थ सिंह चौहान की अदाकारी से सजी नायिका तुनिषा शर्मा सौंदर्य की प्रतिभा बिखेर रही हैं। साथ में  प्रमुख कलाकार हैं स्वर्गीय इंदर कुमार, दीप शिखा, शाहबाज खान, सुदेश बेरी,सुधा चंद्रन और बहुत सारे कलाकार।

—-Akhlesh Singh (PRO)

Parth Singh Chauhan My Ambition Is To Become A Multi Talented Actor Like Salman Khan

सलमान खान जैसा मल्टी टैलेंटेड एक्टर बनना चाहता हूँ : पार्थ सिंह चौहान।

“क्रीना” की शूटिंग के दौरान शहबाज खान से मैंने बहुत कुछ सीखा

—  पार्थ सिंह चौहान

बॉलीवुड इन दिनों परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है। प्रयोग करनेवाले लोग सफलता के नये मापदंड स्थापित कर दर्शकों की रूचि बदलने में कामयाब  हो रहे हैं। निर्माता हरविंद सिंंह चौहान ने कुछ ऐसा ही प्रयोग किया है अपनी पहली फिल्म “क्रीना” के साथ, जो 8 जून को प्रदर्शित हो रही है। इस फिल्म में हालाँकि इडस्ट्री के कई वरिष्ठ कलाकार हैं मगर नायक एक नया लड़का है। जी हां यह लड़का फिल्म का हीरो होकर भी लड़का ही है। जी हां, “क्रीना” का नायक पार्थ सिंह चौहान अभी हाई स्कूल में ही पढ़ रहा है। हरविंद सिंह चौहान स्वयं हीरो नहीं बन सके थे। लेकिन अपने बेटेे पार्थ को  “क्रीना” का नायक बना कर उन्होंने अपनी इच्छा पूरी की। किशोर पार्थ से इस फिल्म को लेकर हुई बातचीत के अंश पेश किए जा रहे हैं:

◆  जब आपने पहली बार कैमरे का सामना किया तो कैसा अनुभव रहा ?

★  पहले शॉट में ही मुझे रोने को कहा गया। पहले तो हँसी आयी, फिर रोना आने लगा कि जबर्दस्ती रोऊं कैसे ? नहीं हो रहा था सही शॉट। चेहरे पर वो भाव ही नहीं आ रहा था जो चाहिए था। पहले शॉट में मेरे साथ शहबाज खान सर का भी काम था। जब मैं नर्वस होने लगा तब उन्होंने मेरा हौसला बढ़ाया। कुछ तरीक़े बताये, टिप्स दिए। मैं उनका कृतज्ञ हूूँ। उनसे मैंने बहुत कुछ सीखा।

◆ पहली फिल्म के लिए कोई ट्रेनिंग ली थी, वर्कशॉप, रिहर्सल किया था ?

★  जी नहीं। किसी ट्रेनिंग का समय ही नहीं मिला। शूटिंग के सिर्फ तीन महीने पहले मुझे बताया गया कि मैं फिल्म कर रहा हूँ। स्कूल छोड़कर कहीं ट्रेनिंग के लिए जाना मुश्किल था। इसलिए सीधे सेट पर गया।

◆  अभी किस कक्षा में पढ़ते हो, पार्थ ?

★  गोल्ड क्रेस्ट इंटरनेशनल स्कूल, वाशी, मुम्बई में आठवीं कक्षा में पढ़ता हूँ।

◆  ऐसा नहीं लगता कि बहुत कम उम्र में फिल्म लाईन में चले आए ?

★  देखिये फिल्म में क्रीना की जो उम्र है वह मेरी उम्र से मैच करती है। हाँ, मैच्योर हीरो के लिए मैं अभी बच्चा ही हूँ। लेकिन,कुछ साल में मैं भी मैच्योर हो जाऊंगा। हाई स्कूल और फिर कॉलेज भी पहुंच जाऊंगा।

◆  हीरो की हीरोइन भी होती है। फ़िल्म में तुम्हारी नायिका कौन है ?

★  तुनिषा शर्मा इसमे मेरी हीरोइन है। साथ में इंडस्ट्री के सीनियर एक्टर्स हैं। जैसे, शहबाज खान, इंदर कुमार, दीपशिखा, सुदेश बेरी, सुधा चन्द्रन । फ़िल्म के संगीतकार दिलीप सेन है।

◆ फिल्म अब रिलीज पर है। फ़िल्म करने से पहले के पार्थ और अब के पार्थ मेंं क्या फर्क आया है ?

★  पहले का पार्थ नर्वस था। अब वह समझदार और आत्मविश्वास हो गया है।

◆  आगे क्या पढ़ने का इरादा है ?

★  मैं ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग करना चाहता हूँ।

◆  एक्टिंग और पढ़ाई में तालमेल कैसे बैठेगा ?

★  बैठ जायेगा, जैसे इस फ़िल्म को करने के दौरान बैठा, कुछ करने का जज़्बा हो तो फिर रास्ते निकल ही आते है।

◆  कैसा अभिनेेेता बनने की चाहत रखते है ?

★  सिर्फ चाहने से नहीं होता। लेकिन फिर भी आपने पूछा है तो मैं सलमान खान से प्रभावित हूँ। वह मल्टी टैलेंटेड एक्टर और स्टार हैं। एक्शन, रोमांस, कॉमेडी सब में परफेक्ट दिखते हैं।

Krina Hindi Film Is Story Of Young Boy With Super Power – Director Shyamal K. Mishra

‘क्रिना’ सुपर पावर रखने वाले युवा की कहानी है: निर्देशक श्यामल के. मिश्रा

‘क्रिना’ और क्रिश, दोनो सुपर हीरो हैं मगर कहानी एकदम अलग है: निर्देशक श्यामल के. मिश्रा

मुम्बई वास्तव में एक मायानगरी है जहां चमत्कार होते रहते है, इंसान यहां बनने कुछ और आता है और बन कुछ और जाता है। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर  से एक नौजवान श्यामल के. मिश्रा कुछ काम करने के लिए मुंबई आया  था। लेकिन किस्मत उसे फिलमी दुनिया मे ले गई और विपुल शाह की फिल्म  “आँखें” में सहायक निर्देशक के तौर पर शुरुआत की। इसके बाद श्यामल टेलीविजन में व्यस्त हो गए। दूरदर्शन के लिए  “संकट मोचन हनुमान” धारावाहिक स्वतंत्र निर्देशक के रूप में किया। फिर आस्था हेतु  “जय जय जय बजरंगबली” की भी कमान संभाली। लेकिन मन फिल्मों को डायरेक्ट करने का बना चुके थे। उनकी पहली फिल्म “रेशम डंक” सिर्फ उत्तर प्रदेश में ही प्रदर्शित हो पायी। पर, खूब सराही गयी। श्यामल इन दिनों अपनी दूसरी फिल्म  “क्रिना”  को लेकर चर्चा में हैं, जो 8 जून को समस्त भारत मे प्रदर्शित हो रही है। निर्देशक श्यामल के. मिश्रा से बातचीत पेश की जा रही है।

◆  क्या है फिल्म “क्रिना” ?

  • “क्रिना” कबायली क्षेत्रों की कहानी है। एक क्षेत्र का सरदार आतातायी है, जो लोगों की ज़िंदगी नर्क बनाए हुए है। क्रिना निर्वासित जीवन जी रहा एक किशोर है। हालात कुछ ऐसे बदलते है कि वह अपने कबीले में वापस आता है। अपने क्षेत्र की दुर्दशा, लोगों का नरकीय जीवन  देख कर वह खौल उठता है। फिर पता चलता है कि उसके माता पिता जीवित हैं और कबीले के कमीने सरदार की क़ैद में हैं।

फिर क्रिना में सुपर पावर आ जाती है और कुछ विशिष्ट होता है। किन्तु, क्रिश जैसा नहीं है ! क्रिना माता का भक्त है। वह मां से शक्ति मांगता है, उसकी प्रार्थना स्वीकार होती है और उसमे कुछ अद्भुत शक्ति आ जाती है।

◆   क्रिना की भूमिका किसने निभाई है ?

  •  फ़िल्म का टाइटल रोल पार्थ सिंह चौहान ने निभाया है। नया एक्टर होते हुए भी उसने बड़ा ही सुलझा और सधा हुआ काम किया है। मुझे  खुशी इस बात की है कि उसने मेरे हर निर्देश और हर इशारे को बड़ी बारीकी से समझा और क्रिना जैसे चुनौतीपूर्ण किरदार को जीवंत कर दिया।

◆  फ़िल्म में और कौन कौन से कलाकार है और वे किस रूप में दिखाई देंगे ?

◆   सुदेश बेरी और शहबाज खान दो अलग अलग कबीले के सरदार के रोल में हैं। सुदेश जहाँ दिल के अच्छे इंसान हैं और क्रिना को आश्रय देते हैं ; वहीं शहबाज आतातायी हैं। सुधा चंद्रन वह पहली स्त्री हैं जो विरोध का स्वर बुलंद करती हैं। दीपशिखा और इंदर कुमार क्रिना के माता पिता हैं और शहबाज खान की कै़द में हैं। तुनिषा शर्मा वह लड़की है, जो क्रिना की मदद करती है। वह सुदेश बेरी की बेटी है और क्रिना से प्रेम भी करने लगी है।

◆  इंद्र कुमार के साथ आपने इसमे काम किया, उनसे कितना सहयोग मिला था आपको ?

  • इंदर कुमार ने बहुत सहयोग किया। हमेशा दोस्त जैसा व्यवहार किया। दुर्भाग्यवश वह अब हमारे बीच नहीं रहे। अफसोस होता है कि हमने एक अच्छा अभिनेता, एक प्यारा इंसान खो दिया।

◆  एक्शन वाली फिल्म में गीत संगीत की सिचुएशन निकालना मुश्किल होता है?

  • बेशक यह फिल्म एक्शन वाली है और भरपूर एक्शन भी है। आर. पी. यादव का एक्शन शानदार है। लेकिन, संंगीत का बेहतर स्कोप है ।संगीतकार दिलीप सेन ने लंबे अर्से बाद किसी फिल्म में संगीत दिया है और बड़ी

अच्छी कर्णप्रिय धुनें बनाई है।

◆  फ़िल्म के निर्माता के बारे में आप क्या कहना चाहेंगे ?

  • मैं हरविंद सिंह चौहान का बेहद शुक्रिया अदा करता हूँ कि उन्होंने मुझे इतनी बड़ी जिम्मेदारी दी। मुझ पर भरोसा किया। वह एक सज्जन पुरुष हैं और भाई की तरह सहयोग दिया, सलाह करते रहे, हर तरह की सुविधाएं मुझे मुहैया कराई।

◆  कैसी फिल्में बनाना आपको पसन्द है ?

  • एक्शन फिल्में बनाने में मेरी रूचि अधिक है। एक्शन फिल्में एवरग्रीन होती हैं।

◆  आपके प्रिय निर्देशक कौन हैं ?

  • मैं रोहित शेट्टी का जबरदस्त फैन हूँ। वह मल्टी टैलेंटेड डायरेक्टर हैं। जितनी अच्छी उनकी एक्शन फिल्में होती हैं, उतनी ही कॉमेडी भी। मैं उनकी मेकिंग, स्टोरी टेलिंग और नरेशन का कायल हूँ।

– दर्शकों से आप अपनी फिल्म को लेकर क्या कहना चाहेंगे?

* मैं तमाम सिनेमा प्रेमियों से यही कहना चाहूंगा कि वह 8 जून को अपने करीबी थिएटर में फ़िल्म क्रीना देखें, उन्हें निराशा नही होगी। एक पैसा वसूल फ़िल्म है।

« Older Entries